उत्तराखंडMain Slideअध्यात्मरोचक खबरें

उत्तराखंड के इस मंदिर में नि:संतान दंपति की कामना पूरी करती हैं देवी अनुसूया  

उत्तराखंड के चमोली में स्थित अनसूया माता मंदिर हिमालय की ऊंची पहड़ियों पर स्थित है इसलिए यहां पहुंचने के लिये आपको पैदल चढ़ाई करनी पड़ेगी और यही आपकी भक्ति की असली परीक्षा भी है।

नौदी मेले का आयोजन

यहां हर साल दत्तात्रेय जयंती समारोह मनाया जाता है। इस जयंती में पूरे राज्य से हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। इस मौके पर यहां नौदी मेले का आयोजन भी किया जाता है जिसमें भारी संख्या में लोग अपने-अपने गांव से देव डोलियों को लेकर पहुंचते हैं।

उत्तराखंड

संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ

ये देव डोलियां माता अनसूया और अत्रि मुनि के आश्रम का भ्रमण करती हैं। माता अनसूया के इस प्राचीन मंदिर में संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ भी कराया जाता है और मान्यता है कि इस यज्ञ में जप व पूजा-पाठ करने वाले को संतान की प्राप्ति अवश्य होती है।

आजमगढ़ में सिपाही ने युवक को मारी गोली

बलि का प्रावधान नहीं

नवरात्रि के दिनों में अनुसूया देवी मंदिर में नौ दिन पूजन-अर्चन किया जाता है जिसमें भारी संख्या में पास के ग्रामीण शामिल होते हैं। मंदिर की विशेषता यह है कि उत्तराखंड के दूसरे मंदिरों की तरह यहां बलि का प्रावधान नहीं है। माता के दर्शन को पहुंचे श्रद्धालुओं को विशेष प्रसाद दिया जाता है जो स्थानीय स्तर पर उगाए गए गेहूं के आटे से बनाया जाता है।

उत्तराखंड

ये है माता अनसूया की कथा

कहते हैं कि इसी स्थान पर माता अनसूया ने अपने तप के बल पर त्रिदेव (ब्रह्मा, विष्णु और शंकर) को शिशु रूप में परिवर्तित कर पालने में खेलने पर मजबूर कर दिया था। बाद में काफी तपस्या के बाद त्रिदेवों को पुन: उनका रूप प्रदान किया और फिर यही तीन मुखवाले दत्तात्रेय का जन्म हुआ था। यही वजह है कि यहां संतान की कामना के साथ लोग आते हैं और उनकी इच्छा पूरी भी होती है।

मंदिर का पुन: निर्माण

प्राचीन काल में यहां देवी अनुसूया का छोटा सा मंदिर था। सत्रहवीं सदी में कत्यूरी राजाओं ने इस स्थान पर अनुसूया देवी के भव्य मंदिर का निर्माण करवाया था। कहते हैं कि अठारहवीं सदी में आए विनाशकारी भूकंप से यह मंदिर ध्वस्त हो गया था। इसके बाद संत ऐत्वारगिरी महाराज ने ग्रामीणों की मदद से इस मंदिर का पुन: निर्माण करवाया।

मंदिर के गर्भ गृह में सती अनसूइया की भव्य मूर्ति

मंदिर में प्रवेश से पहले भगवान गणेश जी की प्रतिमा एक शिला पर विराजमान है। कहते हैं कि भगवान गणेश की यह शिला प्राकृतिक रूप से निर्मित है। मंदिर के गर्भ गृह में सती अनसूइया की भव्य मूर्ति स्थापित है। मूर्ति पर चांदी का छत्र है। मंदिर के प्रांगण में भगवान शिव, माता पार्वती एवं गणेश जी की प्रतिमा स्थापित है। इसके साथ ही सती अनसूइया के पुत्र दत्तात्रेय जी की त्रिमुखी प्रतिमा भी विराजमान है। माता अनसूया मंदिर का निर्माण नागर शैली में किया गया है।

 

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close