व्यापारMain Slideरोचक खबरें

अब मात्र 10 रुपए देकर श्रमिक पा सकेगें ये तमाम सुविधाएं

Now workers can get all these features only with the contribution of 10 rupees

सरकार श्रमिकों की सुविधाओं के लिए कई तरह की स्कीम लागू करती है। ये स्कीम श्रमिकों को ढेर सारे फायदे प्रदान करती है, पर कभी कभी स्कीम की पूरी जानकारी न होने के कारण कई श्रमिक इसका फायदा नहीं उठा पाते हैं। आज हम आपको बतातें हैं ऐसी ही एक स्कीम के बारे में जो श्रमिकों के लिए बहुत काम की है।

इस स्कीम में आप केवल 10 रुपये के मासिक योगदान द्वारा 19 प्रकार की ऐसी सुविधाएं पा सकते हैं जिनके लिए आप को ज्यादा पैसा खर्च करना पड़ता था। अगर किसी श्रमिक की तीन बेटियां और दो बेटे 9वीं और 10वीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे हैं तो उस श्रमिक को 31 हजार रुपए वार्षिक दिए जाएंगे। अगर किसी श्रमिक की बेटी का विवाह है तो उसे 51,000 रुपए वार्षिक दिए जाएंगे। यह तीन बेटियों के लिए मान्य होगा। इसके साथ श्रमिक की पत्नी की डिलीवरी पर 10,000 रुपए दिए जाएंगे।

इस स्कीम में उस संस्थान को हर महीने 20 रुपए जमा करने होंगे जिसमें वो काम करता है। यह हरियाणा की स्कीम है। जिसके बारे में बहुत कम श्रमिक ही जानते है। इस योजना में श्रमिक की सर्विस एक वर्ष की होनी चाहिए और श्रमिक की मासिक आय 25,000 रुपए से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

जानिए श्रमिक इस स्कीम से कौन कौन से फायदे उठा सकतें हैं

  • श्रमिकों के लड़के-लड़कियों के लिए पहली कक्षा से 12वीं कक्षा तक पढ़ाई जारी रखने पर।
  • स्कूल की यूनिफार्म, किताब-कापियां आदि खरीदने के लिए वार्षिक 3000 से 4000 रुपए की सहायता दी जाएगी।
  • 9वीं से 10वीं तक लड़कों के लिए 5000, लड़कियों के लिए 7000 रुपए प्रति वर्ष दिया जाएगा।
  • 11वीं से 12वीं के लड़कों के लिए 5500, लड़कियों के लिए 7750 रुपए प्रति वर्ष दिया जाएगा।
  • मेडिकल की पढ़ाई के लिए भी पैसा बढाकर सुविधा दी जाएगी।
  • प्रतियोगिता के आधार पर 2000 से 31000 रुपए तक राशि दी जाएगी।
  • श्रमिकों के बच्चों को सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं में स्थान मिलने पर 2000 से 31000 रुपये तक राशि दी जाएगी।
  • अगर श्रमिक की किसी भी वजह से मृत्यु हो जाती है तो उसकी विधवा या आश्रित को 2,00,000 रुपए की सहायता राशि दी जाएगी।
  • श्रमिक की कार्य स्थल या बाहर किसी भी कारण से मृत्यु होने पर दाह संस्कार के लिए 15000 रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।
  • कार्यस्थल पर काम के दौरान मृत्यु होने पर आश्रित को 5 लाख रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।
  • श्रमिकों को साईकिल खरीदने पर 3000 रुपये दिए जायेगें पर वेतन सीमा 18,000 रूपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
  • श्रमिकों को चश्मे के लिए 1500 रुपये दिए जायेंगे।
  • तीन लड़कियों की शादी के लिए 51-51 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी।
  • महिला श्रमिकों तथा श्रमिकों की पत्नियों को डिलीवरी पर 10-10 हजार रुपये दिए जायेगे  ये दो बार के लिए ही दिये जाएंगे।
  • श्रमिकों की सेवा के दौरान दुर्घटना या अन्य वजह से दिव्यांग होने पर 1.5 लाख रुपये तक की सहयता दी जाएगी।
  • श्रमिकों और उनके आश्रितों को डेंटल केयर व जबड़ा लगवाने के लिए 4 से 10 हजार रुपये तक की राशि दी जाएगी।
  • श्रमिकों की किसी भी दुर्घटना में अपंग हुए श्रमिकों व उनके आश्रितों को कृत्रिम अंगों के लिए सहायता मिलती है।
  • बधिर श्रमिकों व उनके बधिर आश्रितों को श्रवण मशीन के लिए 5000 (पांच साल में एक बार) दिया जाएगा।
  • श्रमिकों को नई सिलाई मशीन खरीदने के लिए 3500 रुपये की सुविधा दी जाएगी (पांच साल में एक बार लेकिन सर्विस 2 साल होनी चाहिए)।
  • दिव्यांग श्रमिकों तथा उनके आश्रितों को तिपहिया साईकिल के लिए 7000 रुपये की राशि दी जाएगी।
  •  पांच साल की सर्विस पर श्रमिकों को 1500 रुपये (LTC) छुट्टी यात्रा रियायत की सुविधा दी जाएगी।
  • श्रमिकों के दिव्यांग बच्चों को 20,000 से 30,000 रुपये की सहायता दी जाएगी।  इसमें वेतन की सीमा तय नहीं की गयी है।

 

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close