उत्तराखंडMain Slideअध्यात्मरोचक खबरें

उत्तराखंड की विरासत और मासूमियत से लबरेज़ है – फूलदेई, छम्मा देई

देहरादून : 14 मार्च यानी आज के दिन चैत्र मास की संक्रान्ति का पर्व मनाया जाता है, आज से भारतीय कलैंडर का पहला दिन माना जाता है। आज के दिन फूलदेई त्योहार मनाया जाता है। आज का दिन बच्चों के लिए विशेष रूप से खास होता है। बच्चे फूलदेई त्योहार का बेहद बेसब्री से इंतजार करते है।

‘रिंगाल’ से बनी टोकरी

जैसे ही सुबह होती है बच्चे बुराँस, फ्योंली, सरसों, कठफ्योंली, आड़ू, खुबानी, भिटौर, गुलाब आदि के फूलों को तोड़ने के लिए अपने अपने घरों से निकल जाते है। बच्चे इन फूलों को घर लाकर ‘रिंगाल’ से बनी टोकरी में सजाते हैं।

इसके बाद बच्चे घर-घर जाते हैं और कहते है –

फूलदेईछम्मा देई,

दैंणी द्वारभर भकार,

य देई में होखुशी अपार,

जुतक देलाउतुक पाला,

य देई कैंबारम्बार नमस्कार.

फूलदेईछम्मा देई.

इन पंक्तियों का अर्थ

इन पंक्तियों का अर्थ है, “देहरी के फूल भरपूर और मंगलमयी हो, घर की देहरी क्षमाशील हों और सबकी रक्षा करें, सबके घरों में अन्न का पूर्ण भंडार हो।”

आध्यात्मिक त्यौहार

लोग बच्चों को आशीर्वाद देकर गुड़, चावल, मिठाई और पैसे दक्षिणा के रूप में भेंट करते हैं। शाम के वक्त पारम्परिक गढ़वाली-कुमाउँनी पकवान बनाकर आस-पड़ोस में बाँटे जाते हैं। फूल संक्रान्ति बच्चों को प्रकृति प्रेम और सामाजिक चिंतन की शिक्षा बचपन से ही देने का एक आध्यात्मिक त्यौहार है।

 

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close