Main Slideजीवनशैलीराष्ट्रीयरोचक खबरें

जाने 15 जनवरी को क्यों मनाया जाता है सेना दिवस

भारत में हर वर्ष 15 जनवरी के दिन भारतीय थल सेना दिवस मनाया जाता है। आज ही के दिन 1949 में फील्ड मार्शल केएम करियप्पा ने जनरल फ्रांसिस बुचर से भारतीय सेना की कमान सम्भाली थी। फ्रांसिस बुचर भारत के आखिरी ब्रिटिश कमांडर इन चीफ थे।

देखें उत्तराखंड की अन्य खबरें, हमारे Youtube चैनल पर –

फील्ड मार्शल केएम करियप्पा भारतीय आर्मी के पहले कमांडर इन चीफ बनाए गए थे। करियप्पा के भारतीय थल सेना के शीर्ष कमांडर का पदभार ग्रहण करने के उपलक्ष्य में हर वर्ष आज का यह दिन सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है।

देखें उत्तराखंड की अन्य खबरें, हमारे Youtube चैनल पर –

करियप्पा पहले ऐसे ऑफिसर थे जिन्हें फील्ड मार्शल की रैंक दी गई थी। सेना दिवस पर उपलक्ष्य में भारत थल सेना के अदम्य साहस, उनकी वीरता, शौर्य और उसकी कुर्बानी को याद करता है।

देखें उत्तराखंड की अन्य खबरें, हमारे Youtube चैनल पर –

जानिए भारतीय सेना के कुछ तथ्य

  • भारतीय आर्मी का गठन 1776 में ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा कोलकाता में किया गया था।
  • भारतीय आर्मी चीन और अमेरिका के साथ विश्व की तीन सबसे बड़ी आर्मी में शामिल है।
  • 2013 में उत्तराखंड के बाढ़ पीड़ितों को बचाने के लिए चलाया जाने वाला ‘ऑपरेशन राहत’ विश्व का सबसे बड़ा सिविलियन रेस्क्यू ऑपरेशन था।
  • आर्मी डे को सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व अन्य आधिकारिक कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है।
  • आर्मी के जवानों के दस्ते और अलग-अलग रेजिमेंट की परेड होती है।
  • साथ ही इस दिन उन सभी बहादुर सेनानियों को सलामी भी दी जाती है जिन्होंने कभी ना कभी अपने देश और लोगों की सलामती के लिये अपने प्राण तक न्योछावर कर दिए।
Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close