स्वास्थ्यMain Slideजीवनशैलीरोचक खबरें

इतनी सारी बीमारियों को दूर करती ये वनस्पति, जाने क्या हैं इसके सेवन के फायदे

शंखपुष्पी ऐसी वनस्पति है, जो मस्तिष्क को स्वस्थ तो रखती ही है साथ ही साथ कई बीमारियों को भी दूर करती है। भारत में यह जड़ी-बूटी पथरीले मैदानों में पाई जाती है। यह जड़ी-बूटी खास कर मस्तिष्क को मजबूत करने वाली और याददाश्त को बढ़ाती है।

शंखपुष्पी की तासीर ठंडी होती है और इसका स्वाद कसैला होता है। आज कल हर व्यक्ति को इसका उपयोग करना चाहिए। इस पौधे के फूल, पत्ते, तना, जड़ और बीज समेत करीबन सभी हिस्सों का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है।

आइए जानते हैं क्या हैं शंखपुष्पी के फायदे

दिमाग को बनाती मजबूत

  • शंखपुष्पी दिमाग को काफी मजबूत बनाती है और साथ ही मस्तिष्क के सभी रोगों को दूर करने में भी बहुत मदद करती है।
  • शंखपुष्पी और गिलोय का सत्व, अपामार्ग की जड़ का चूर्ण, विडंग के बीजों का चूर्ण, कूठ, वचा, शतावरी और छोटी हरड़ को बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम 3-3 ग्राम की मात्रा दूध के साथ लेने से याददाश्त अच्छी होती है।

बाल बनें लंबे और चमकदार

  • शंखपुष्पी बालों को लम्बा करती है और इन्हें चमकदार बनती है यह।
  • इसका जड़ सहित पूरा पौधा पीसकर उसका लेप सिर पर लगाने से बाल लंबे, सुंदर और चमकदार हो जातें हैं।
  • इसके रस को शहद में मिलाकर पीने से बालों का झड़ना थम जाता है और बाल घने, मजबूत और चमकदार हो जाते हैं।

खून की उल्टी रोकने में मददगार

  • शंखपुष्पी खून की उल्टी रोकने में बहुत मददगार है। अगर किसी को खून की उल्टी हो रही हो, तो 4 चम्मच शंखपुष्पी का रस, 1 चम्मच दूब घास तथा 1 चम्मच गिलोय का रस मिलाकर पिलाने से तुरंत फायदा होता है।

डायबिटीज को करे कंट्रोल

  • शंखपुष्पी डायबिटीज के रोगियों के लिए बेहद लाभदायक है।
  • यह शरीर की सारी कोशिकाओं में ऊर्जा का संचार करती है।
  • डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए शंखपुष्पी का चूर्ण 2-4 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम गाय के दूध के मक्खन के साथ या पानी के साथ लेने से बहुत आराम मिलेगा।

अस्थमा, सर्दी, खांसी, बुखार ठीक करे

  • मौसम बदलते ही अस्थमा, सर्दी, खांसी और बुखार जैसी दिक्कतें तेजी से बढ़ने लगती हैं।
  • बुखार, अस्थमा और पुरानी खांसी को दूर करने के लिए शंखपुष्पी के पत्तों को सुखाकर हुक्के की तरह इसका सेवन करने से आराम मिलता है।
  • शंखपुष्पी शरीर में पित्तदोष के रस का संतुलन बनाए रख कर एसिडिटी की समस्या को दूर करती है।
  • इसके लिए शंखपुष्पी के पत्ते का 4 छोटा चम्मच रस निकालकर 1 गिलास दूध में मिलाकर प्रतिदिन सुबह सेवन करें।
  • खांसी में इसके रस का सेवन तुलसी और अदरक के साथ करना चाहिए।

#vegetation #health #shankhpushpi #healthcare

 

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close