उत्तराखंडMain Slideकैरियरजीवनशैलीप्रदेशमनोरंजनरोचक खबरेंव्यापार

‘जो व्यक्ति टिहरी झील को देखेगा वह बार-बार यहां आएगा’

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने टिहरी में तीन दिवसीय टिहरी लेक महोत्सव-2019 का शुभारम्भ किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा,” टिहरी झील हमारे लिए अनमोल धरोहर की तरह है, जिसमें देश-विदेश के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने की क्षमता है। इस झील में हमे उत्तराखण्ड के बच्चों का भविष्य नजर आता है। प्रदेश के युवाओं के बेहतर भविष्य एवं संकल्पना को साकार करने के लिए झील महोत्सव आयोजित किया जा रहा है।”

टिहरी,टिहरी लेक महोत्सव-2019,गंगा नदी,पर्यटन,त्रिवेंद्र सिंह रावत

उन्होंने आगे कहा कि हमें प्रदेश को पर्यटन प्रदेश के रूप में विकसित करना है। खर्चीलें टूरिस्ट यहां आयेंगे तो इस क्षेत्र की आर्थिकी को और मजबूती मिल सकती है। हमें विश्वास है कि जो व्यक्ति टिहरी झील को देखेगा वह बार-बार यहां आएगा। गत वर्ष 13 राज्यों के प्रतिभागी टिहरी झील महोत्सव में आये थे और इस बार 24 राज्यों के प्रतिनिधि इस महोत्सव में प्रतिभाग कर रहे हैं। प्रदेश सरकार द्वारा 13 जिले 13 डेस्टीनेशन की योजना पर कार्य किया जा रहा है।

टिहरी,टिहरी लेक महोत्सव-2019,गंगा नदी,पर्यटन,त्रिवेंद्र सिंह रावत

मुख्यमंत्री ने कहा कि नई टिहरी क्षेत्र को पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित करने के लिए सरकार प्रयासरत हैं। डोबरा-चांठी पुल के निर्माण के बाद टिहरी के दोनो ओर होटल, रिजोर्ट एवं शिक्षण संस्थान बनेगें। इससे पर्यटकों को अधिक सुविधाये उपलब्ध हो सकेंगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने कहा कि टिहरी में आवागमन को सुगम बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने एक मुश्त रूपए 88 करोड़ डोबरा-चांठी पुल निर्माण के लिए अवमुक्त किए हैं। ऑलवेदर रोड़ पर भी कार्य चल रहा है। ऑलवेदर रोड़ बनने के बाद ऋषिकेश से नई टिहरी पहुंचने में मात्र डेढ घण्टे का समय लगेगा। टिहरी झील में सी प्लेन उतारने के लिए भारत सरकार द्वारा सर्वेक्षण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शीघ्र ही टिहरी झील में सी प्लेन उतारा जाएगा। अगले आने वाले 10-15 वर्षो में टिहरी का एक नया स्वरूप सामने आएगा जो निश्चित रूप से देश व दुनिया को अपने ओर आकर्षित करने में मददगार रहेगा।

टिहरी,टिहरी लेक महोत्सव-2019,गंगा नदी,पर्यटन,त्रिवेंद्र सिंह रावत

गंगा नदी की स्वच्छता एवं निर्मलता बनाये रखने का आह्वान करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने ‘‘यह कल-कल बहती गंगा की धारा क्या कहती….. ” पंक्तियों के माध्यम से पवित्रगंगा का स्मरण किया। उन्हांने कहा कि गंगा नदी हमें त्याग व समर्पण सीखाती है निर्मलता का संदेश देती है। हम सभी को गंगा की निर्मलता एवं स्वच्छता को बनाये रखने में योगदान देना होगा। उन्होंने टिहरी की जनता से अतिथि सत्कार की भावना विकसित करने की भी अपील की ताकि अधिक से अधिक पर्यटक टिहरी भ्रमण पर आने के लिए प्रेरित हों।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने नई टिहरी साहसिक खेल अकादमी का नाम एवरेस्ट विजेता स्व. दिनेश सिंह रावत के नाम पर रखे जाने की घोषणा की।

उन्होंने मां राजेश्वरी महिला स्वयं सहायता समूह को सिलाई व्यवसाय, जागृति महिला वचन समूह को डेरी व्यवसाय एवं भगवती महिला स्वयं सहायता समूह को अगरबत्ती उद्योग विकसित करने के लिए जीरो प्रतिशत ब्याज पर रूपए पांच-पांच लाख के ऋण के चेक वितरित किए।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close