राष्ट्रीयMain Slideअध्यात्मप्रदेश

दशहरा 2020 : यहां रावण की होती है पूजा, लोग मानते हैं अपना देवता

भारत में दशहरे के दिन रावण का दहन कर पूरे धूम-धाम से मनाया जाता है। इस दिन लोगों का मामना रहता है कि रावण को जलाने के साथ ही वे अपने अंदर की बुराई भी खत्म कर लेते हैं। इसके बावजूद भारत में कुछ ऐसी जगह है जहां रावण को जलाय नहीं बल्कि पूजा जाता है। ऐसा होने के पीछे कई मान्यताएं और तथ्य प्रचलित हैं। आइए जानते उन जगहों के बारे में जहां दशहरा के दिन रावण के दहन की जगह उनकी पूजा की जाती हैं।
Image result for रावण की पूजामध्य प्रदेश- मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले के चिखली गांव में भी रावण का दहन नहीं किया जाता है। यहां के बारे में कहा जाता है कि रावण की पूजा नहीं करने पर गांव जलकर राख हो जाएगा। इसलिए इस गांव में दशहरे पर रावण का दहन करने के बजाए पूजा की जाती है। इस गांव में रावण की विशालकाय मूर्ति भी स्थापित है।

आंध्रप्रदेश- आंध्रप्रदेश के काकिनाड में रावण का मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर में भगवान शिव के साथ रावण की भी पूजा की जाती है।

कर्नाटक- कर्नाटक के कोलार जिले में भी रावण की पूजा की जाती है। यहां की धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, रावण भगवान शिव का भक्त था, जिस कारण यहां के लोग रावण की पूजा करते हैं। इसके अलावा कर्नाटक के मंडया जिले के मालवली नामक स्थान पर रावण का मंदिर बना हुआ है, जहां लोग उसे महान शिव भक्त के रूप में पूजते हैं।

महाराष्ट्र- अमरावती के गढ़चिरौली नामक स्थान पर आदिवासी समुदाय द्वारा रावण का पूजन होता है। कहा जाता है कि यह समुदाय रावण और उसके पुत्र को अपना देवता मानते हैं।

‘सत्य और शौर्य के आधार पर कठनाइयों पर विजय प्राप्त करना सिखाता है दशहरा’

उत्तर प्रदेश- उत्तर प्रदेश के बिसरख गांव में भी रावण का मंदिर बना हुआ है और यहां पर रावण का पूजन होता है। ऐसा माना जाता है कि बिसरख गांव, रावण का ननिहल था।

हिमाचल प्रदेश- कांगड़ा जिले के इस कस्बे में भी रावण की पूजा की जाती है। मान्यता है कि रावण ने यहां पर भगवान शिव की तपस्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उसे मोक्ष का वरदान दिया था। यहां के लोगों की ये भी मान्यता है कि अगर उन्होंने रावण का दहन किया तो उनकी मौत हो सकती है। इस भय के कारण भी लोग रावण के दहन नहीं करते हैं बल्कि पूजा करते हैं।

राजस्थान- राजस्थान के जोधपुर में रावण का मंदिर है। यहां के कुछ समाज विशेष के लोग रावण का पूजन करते हैं और खुद को रावण का वंशज मानते हैं। यही कारण है कि यहां के लोग दशहरा के अवसर पर रावण का दहन करने के बजाए रावण की पूजा करते हैं।

#Trivendrasinghrawat #HappyDussehra #Dussehra

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close